अगर शीघ्रपतन है तो… खाएं खजूर

अगर शीघ्रपतन है तो… खाएं खजूर

शीघ्रपतन की समस्या आज अधिकतर पुरुषों को होगी। लेकिन इसका इलाज क्या है…?
शर्म के कारण डॉक्टर के पास जा नहीं सकते हैं। किसी को बता नहीं सकते हैं तो करे क्या।


तो ये लेख पढ़ते हैं और इस लेख में दिए हुए घरेलू नुस्खे का इस्तेमाल करते हैं। इस लेख में आप खजूर-मिल्क के उपाय के बारे में जानने वाले हैं जो पुरुष स्वास्थ्य से जुड़े हुए कई सारी बीमारियों को इलाज करता है।

इन बीमारियों का करता है इलाज

  • शीघ्र पतन
  • वीर्य का पतलापन
  • वीर्य के अन्य विकार
  • कमजोर स्पर्म
  • नाइट फॉल
  • इस्तेमाल करने का तरीका

    • शीघ्रपतन और वीर्य के पतलेपन से जुड़ी सभी समस्या को दूर करने के लिए खजूर रामबाण है। अगर आपको भी है समस्या तो खजूर खाएं।
    • वीर्य को गाढ़ा करने के लिए 6 या 7 खजूर लें।
    • अब एक बर्तन में एक ग्लास दूध, इलायची, चीनी और कौंच डालकर थोड़ी देर तक उबाल लें।
    • अब ये 6 या 7 खजूर खाएं और उसके बाद वो गर्म किया दूध पी लें।
    • खजूर में मौजूद आयरन, मिनरल, कैल्शियम, अमीनो एसिड, फॉस्फोरस और विटामिन्स से पुरुषों में शक्ति आती है और वीर्य के पतलेपन की समस्या दूर होती है।

  • छुहारा और खजूर एक ही पेड़ की देन है। इन दोनों की तासीर गर्म होती है और ये दोनों शरीर को स्वस्थ रखने, मजबूत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। गर्म तासीर होने के कारण सर्दियों में तो इसकी उपयोगिता और बढ़ जाती है। आइए, इस बार जानें छुहारा और खजूर के फायदे के बारे में–खजूर में छुहारे से ज्यादा पौष्टिकता होती है। खजूर मिलता भी सर्दी में ही है। अगर पाचन शक्ति अच्छी हो तो खजूर

     खाना ज्यादा फायदेमंद है। छुहारे का सेवन तो सालभर किया जा सकता है, क्योंकि यह सूखा फल बाजार में सालभर मिलता है।

    – छुहारा यानी सूखा हुआ खजूर आमाशय को बल प्रदान करता है।

    – छुहारे की तासीर गर्म होने से ठंड के दिनों में इसका सेवन नाड़ी के दर्द में भी आराम देता है।

    – छुहारा खुश्क फलों में गिना जाता है, जिसके प्रयोग से शरीर हृष्ट-पुष्ट बनता है। शरीर को शक्ति देने के लिए मेवों के साथ छुहारे का प्रयोग खासतौर पर किया जाता है।

    – छुहारे व खजूर दिल को शक्ति प्रदान करते हैं। यह शरीर में रक्त वृद्धि करते हैं।

    – साइटिका रोग से पीड़ित लोगों को इससे विशेष लाभ होता है।

    – खजूर के सेवन से दमे के रोगियों के फेफड़ों से बलगम आसानी से निकल जाता है।

    -लकवा और सीने के दर्द की शिकायत को दूर करने में भी खजूर सहायता करता है।

    -भूख बढ़ाने के लिए छुहारे का गूदा निकाल कर दूध में पकाएं। उसे थोड़ी देर पकने के बाद ठंडा करके पीस लें। यह दूध बहुत पौष्टिक होता है। इससे भूख बढ़ती है और खाना भी पच जाता है।

    -प्रदर रोग स्त्रियों की बड़ी बीमारी है। छुआरे की गुठलियों को कूट कर घी में तल कर, गोपी चन्दन के साथ खाने से प्रदर रोग दूर हो जाता है।

    -छुहारे को पानी में भिगो दें। गल जाने पर इन्हें हाथ से मसल दें। इस पानी का कुछ दिन प्रयोग करें, शारीरिक जलन दूर होगी।

    -अगर आप पतले हैं और थोड़ा मोटा होना चाहते हैं तो छुहारा आपके लिए वरदान साबित हो सकता है, लेकिन अगर मोटे हैं तो इसका सेवन सावधानीपूर्वक करें।

    -जुकाम से परेशान रहते हैं तो एक गिलास दूध में पांच दाने खजूर डालें। पांच दाने काली मिर्च, एक दाना इलायची और उसे अच्छी तरह उबाल कर उसमें एक चम्मच घी डाल कर रात में पी लें। सर्दी-जुकाम बिल्कुल ठीक हो जाएगा।

    -दमा की शिकायत है तो दो-दो छुहारे सुबह-शाम चबा-चबा कर खाएं। इससे कफ व सर्दी से मुक्ति मिलती है।

    -घाव है तो छुहारे की गुठली को पानी के साथ पत्थर पर घिस कर उसका लेप घाव पर लगाएं,घाव तुरंत भर जाएगा।

    -अगर शीघ्रपतन की समस्या से परेशान हैं तो तीन महीने तक छुहारे का सेवन आपको समस्या से मुक्ति दिला देगा। इसके लिए प्रात: खाली पेट दो छुहारे टोपी समेत दो सप्ताह तक खूब चबा-चबाकर खाएं। तीसरे सप्ताह में तीन छुहारे खाएं और चौथे सप्ताह से 12वें सप्ताह तक चार-चार छुहारों का रोज सेवन करें। इस समस्या से मुक्ति मिल जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *