इरेक्टाइल डिसफंक्शन दूर करने के लिए व्यायाम

इरेक्टाइल डिसफंक्शन दूर करने के लिए व्यायाम

इरेक्टाइल डिसफंक्शन

आधुनिक समय में जीवनशैली और आहार में आये बदलाव और भोजन में ओमेगा-3 फैटी एसिड की भारी कमी आने के कारण पुरुषों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन की समस्या बहुत बढ़ गई है। यौन उत्तेजना होने पर शिश्न में फैलाव और की कमी को स्तंभनदोष या इरेक्‍टाइल डिसफंक्‍शन कहते हैं। इसका मुख्य कारण डायबिटीज, उच्च रक्तचाप, दवाइयां (ब्लडप्रेशर, डिप्रेशन आदि में दी जाने वाली) इत्यादि भी है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए उपाय

इरेक्‍टाइल डिसफंक्‍शन का इलाज सिल्डेनाफिल (वियाग्रा) जैसी दवाओं के साथ करना ही एकमात्र विकल्प नहीं है। पश्चिम, ब्रिटेन के विश्वविद्यालय में हुए एक अध्ययन के अनुसार, पेल्विक एरिया की एक्‍सरसाइज करने से लगभग 40 प्रतिशत पुरुषों में इरेक्‍टाइल की समस्‍या नार्मल हो गई और 33.5 प्रतिशत लोगों में समस्‍या का सुधार हुआ।

किस तरह का व्यायाम?

पेल्विक फ्लोर एक्‍सरसाइज पेल्विक फ्लोर मांसपेशियों की शक्ति में सुधार और अधिक सामान्यतः “किगल” एक्‍सरसाइज के रूप में जाना जाता है। बच्‍चे के जन्‍म के बाद महिलाएं की मांसपेशियों को टोन करने के लिए यह एक्‍सरसाइज करती है। कीगल एक्‍सरसाइज मूत्र संयम और यौन स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है। यह एक्‍सरसाइज पुरुषों के लिए भी फायदेमंद होती है। विशेष रूप से, बुलबोकावरनोसस की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करती हैं। यह महत्‍वपूर्ण मांसपेशी के तीन काम होते हैं, स्खलन के दौरान पंप करना, इरेक्शन के दौरान लिंग को रक्त से भर देना, और यूरीन के बाद मूत्रमार्ग को खाली करने में मदद करना।

बेसिक किगल एक्‍सरसाइज

पेल्विक फ्लोर (कम श्रोणि) की मांसपेशियों को मजबूत बनाने के लिए एक्‍सरसाइज करने का सबसे अच्छा तरीका है, यूरीन  बीच में अपनी धारा को कई बार रोकने का प्रयास करना। आप जिस मांसपेशियों को पकड़ते हैं, उसमें व्यायाम करने की जरूरत होती हैं। इसे एक्‍सरसाइज को करने के लिए इन मांसपेशियों को 5 सेकंड तक पकड़ कर फिर आराम से छोड़ना है। इसे 10 से 20 बार, दो या तीन बार एक दिन दोहराये। आप इस एक्‍सरसाइज को बैठकर, खड़े होकर या घुटनों के बल लेटकर कर सकते हैं।

ध्‍यान रखें यह बातें

पहली बार प्रयास करने पर आप कीगल एक्‍सरसाइज की पूरी श्रृंखला को 10 बार में खत्‍म करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं। इसलिए आप कीगल एक्‍सरसाइज को पहली बार एक दिन में 10 से 20 बार तीन बार में करें। इसे करते समय अपनी सांस को रोकें नहीं और न ही अपने पेट, कूल्हों, या जांघ की मांसपेशियों को धक्का दें। इसके अलावा इस बात को भी ध्‍यान रखें कि पांच बार करने के बाद आपको रिलेक्‍स करना है।

अतिरिक्त लाभ

कीगल के बारे में सोचने का एक और तरीका यह भी है कि आप गुदा की मांसपेशियों को दबा रहे हैं जैसे आप मल त्याग को रोकते हैं। इसे करने के लिए सांस लेते हुए 5 से 10 सेकंड के लिए रुकें फिर सभी मांसपेशियों को आराम दें। पेल्विक फ्लोर एक्‍सरसाइज स्तंभन दोष को राहत देने में मदद करने के साथ मूत्र या मल असंयम को कम करने, यूरीन के बाद रिसाव को रोकने और समग्र यौन अनुभव में सुधार करती है।

एरोबिक व्यायाम

पेल्विक एरिया के अलावा मांसपेशियों की एक्‍सरसाइज से भी इरेक्टाइल डिसफंक्शन से निपटने में मदद मिलती हैं। इटली और इथियोपिया में अध्ययन के अनुसार, एरोबिक एक्‍सरसाइज से भी इरेक्‍टाइल डिसफंक्‍शन में सुधार हो सकता है।

एरोबिक व्यायाम के लाभ

इरेक्टाइल डिसफंक्शन की समस्‍या अक्‍सर लिंग में रक्त प्रवाह की समस्याओं के कारण होता है। मोटापा, मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल, और नाड़ी संबंधी रक्त प्रवाह को प्रभावित कर इरेक्‍टाइल डिसफंक्‍शन का कारण बनते हैं। अपनी दिनचर्या में  एरोबिक एक्‍सरसाइज को शामिल कर आप समग्र स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं और इससे स्तंभन दोष में भी सुधार हो सकता है। यहां तक कि एक दिन में 30 मिनट या तीन से चार बार एक सप्‍ताह में ब्रिस्क वाकिंग करना आपके हृदय रोगों के साथ इरेक्‍टाइल डिसफंक्‍शन के लिए भी अच्‍छा होता है।

एक्सट्रीम्स कैप्सूल से करे इसका उपचार

एक्स्ट्रीमक्स एक प्राकृतिक कैप्सूल है जो शीघ्रपतन के परेशान मुद्दे को आसानी से ठीक करता है। एक्स्ट्रीमक्स कैप्सूल सर्वश्रेष्ठ और प्रभावी उन कुछ यौन दवाओं में से एक है जो न केवल समय से पहले स्खलन को रोकने में बल्कि आकार में वृद्धि करने में मदद करता है, सहनशक्ति, निर्माण क्षमता, संभोग का समय, लिंग स्थिरता, संभोग सुख, क्षमता और वीर्य मूल्य धारण करने में सुधार करता है।

यदि आप चाहते हैं कि आपकी शादी शुदा ज़िन्दगी में खुशिया भरी रहे और आपकी यौन से जुडी समस्याएँ दूर हो जाये, तो आपको एक्स्ट्रीम एक्स कैप्सूल का इस्तेमाल करना चाहिए और डॉ। हाशमी से संपर्क करना चाहिए जो आपकी समस्या का समाधान करेंगे ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *