माइग्रेन में क्या करें क्या ना करे

माइग्रेन में क्या करें क्या ना करे

  • माइग्रेन आज की तनावभरी जीवनशैली का परिणाम है।
  • माइग्रेन सामान्य लेकिन विशिष्ट प्रकार का सर दर्द है।
  • माइग्रेनग्रस्त लोगों को नियमित सिरदर्द के दौरे पड़ते हैं।
  • इसके लक्षण सर दर्द, उल्टियां और दृष्टि का धुंधला होना है।
  • बहुत अधिक परेशान करने वाला होता है माइग्रेन का दर्द।
  • अपनी जीवनशैली संयमित रखें और सही समय पर भोजन करें।
  • डॉक्‍टर की सुझायी दवाओं का नियमित रूप से सेवन करें।
  • सूर्य की रोशनी के सीधे संपर्क में आने से बचें।

माइग्रेन एक आम बीमारी है जो दिमाग में नर्व की सूजन से पैदा होती है। अर्धकपारी या फिर माइग्रेन एक प्रकार का सिरदर्द है। माइग्रेन सिर में हल्के दर्द से शुरू होकर तेज दर्द की ओर बढ़ जाता है। कभी-कभी यह लगभग चार घंटे से लेकर 72 घंटे तक बना रहता है। इसमें सिर के पिछले हिस्से में गर्दन के पास से लेकर पूरे सिर में बहुत भंयकर दर्द होता है। माइग्रेन किसी भी आयु में हो सकता है, यह आजकल की अव्यवस्थित जिंदगी की देन है। जिसमें हम अपने खानपान पर नियमित ध्यान नहीं दे पाते हैं। परिणामस्वरूप जाने-अनजाने माइग्रेन जैसे रोगों के शिकार बन जाते हैं।

माइग्रेन होने पर क्या करें

  • माइग्रेन होने पर नियमित रुप से, डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाएं लेनी चाहिये।
  • मौसम के बदलाव से खुद को बचाना चा‍हिए और अपना ख्याल रखना चाहिये।
  • आप कम से कम 6-8 घंटे की गहरी नींद जरूर ले।
  • योग, मेडिटेशन और मार्निंग वॉल्क, खासकर नियमित रुप से व्यायाम करें।
  • भोजन समय पर करें।
  • जब भी घर से बाहर निकले छाता लें और सूरज की सीधी रोशनी से बचें।
  • बर्फ या ठंडे पानी की पट्टी सिर पर रखें। इससे जो रक्त धमनियां फैल गयी हैं, वे फिर से अपनी पूर्व स्थिति पर वापस आ जायेगी।
  • सिर पर मेहंदी का लेप लगायें। इससे बहुत आराम मिलता है।
  • दालचीनी को पीसकर इसका लेप माथे पर लगायें इससे दर्द से तुरंत आराम मिलेगा।
  • दालचीनी को पाउडर बनाकर दिन में चार बार ठंडे पानी के साथ खाने से भी आराम मिलेगा।
  • माइग्रेन सिर दर्द में अदरक बहुत फायदेमंद है। अदरक के सेवन से मिचली और उल्टी आना बंद हो जायेगी।
  • पिसी दालचीनी, अदरक का पाउडर, पिसी काली मिर्च और तुलसी पत्ती को मिलाकर पीसकर पाउडर बना लें। इस मिश्रण का सेवन शहद के साथ करें। आपको तुरंत फायदा होगा।
  • माइग्रेन सिर दर्द होने पर आराम करने की सख्त जरूरत है। रोशनी और आवाज से दूर रहें। आंख बंद करके सोने की कोशिश करें।
  • हरी पत्तेदार सब्जियों और वजिटेबल जूस जैसे गाजर, पालक, खीरा खाए। मौसमी फल व सब्जियां खायें।
  • रात में हल्का एवं फारबर युक्त भोजन करें, रात को सोते समय एक चम्मच त्रिफला तथा आंवले के चूर्ण का गुनगुने पानी से सेवन करें, पेट साफ रहेगा और आप काफी आराम महसूस करेंगें।
  • सिर दर्द शुरू होते ही जीभ की नोक पर एक चुटकी नमक रख लें आधा मिनट बाद पानी पी लें सिर दर्द गायब हो जायगा।

क्या न करें

  • माइग्रेन हो तो तेज रोशनी एवं तेज शोर से दूर रहे।
  • माइग्रेन होने पर धूप में या फिर ठंडक में घर से बाहर न निकलें।
  • माइग्रेन का दर्द होने पर अपना मुंह ठंडे पानी से धोने के बाद अंधेरे कमरे में आराम करे।
  • आंखों पर ज्यादा जोर न डालें।
  • पानी पर्याप्त मात्रा में पिएं। दिन भर में कम से कम 9 से 10 गिलास पानी जरूर पिएं।
  • कुछ समय के अंतराल पर नियमित रूप से थोड़ा-थोड़ा भोजन करे। एक बार में पेट भर न खाएं।
  • अगर आपको खाद्य पदार्थो से एलर्जी के कारण माइग्रेन हो, तो उन फलों-सब्जियों और अनाज से परहेज़ करें।
  • माइग्रेन पेशेंट कभी भी व्रत ना करें, और ना ही ऐसा भोजन करें जिसमें वसा हो।
  • दबाव या स्ट्रेस से दूर रहे।
  • माइग्रेन से पीडि़त 16 साल से कम उम्र वाले बच्चों को एसप्रिन नहीं लेनी चाहिये।
  • तेज इत्र या पर्फ्यूम ना लगाए।

चिकित्सकीय निगरानी में रहकर और जीवन-शैली में बदलाव करके इस रोग से आसानी से निपटा जा सकता है।

इस्तेमाल करे माइग्रोकिल कैप्सूल

हाश्मी माइग्रोकिल माइग्रेन के लिए एक प्राकृतिक उपचार है। यह दुर्लभ प्राकृतिक हर्बल निष्कर्षों के संयोजन का उपयोग करके बनाया गया है जो मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र गतिविधियों से मुक्त होने में अत्यधिक प्रभावी पाए जाते हैं। यह सिरदर्द और मतली से तत्काल राहत प्रदान करता है। अद्वितीय माइग्रेन उपचार शरीर पर पूरा प्रभाव लाता है और माइग्रेन से जुड़े सभी लक्षणों को नियंत्रित करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *