लिकोरिया का इलाज के उपाय और घरेलु नुस्खे

लिकोरिया का इलाज के उपाय और घरेलु नुस्खे

लिकोरिया को सामान्य भाषा में इसे सफेद पानी जाना कह जाता है। यह समस्या भारतीय महिलाओं में एक आम परेशानी है। ये गुप्तांगों से पानी जैसा बहने वाला स्त्राव होता है। यह स्वंय कोई रोग नहीं होता लेकिन अन्य कई बीमारियों की वजह से होता है। देखा जाए तो यह कोई बीमारी नहीं है बल्कि गर्भाशयगत व्याधि का लक्षण है। इसके असर महिला के शरीर पर पडता है, जैसे हाथ-पैरों में दर्द का होना, शरीर में भारी पन रहना, चिडचिडापन रहना आदि। इस बीमारी में महिला के योनि माज् से सफेद, चिपचिपा, बदबूदार स्त्राव होता है। इसे वेजाइनल डिस्चार्ज कहते हैं।

हरी मेथी के 250 ग्राम पत्ते पानी से अच्छे तरह धोकर एक लीटर पानी में उबाल ले। अब पानी छानकर हल्का सा गर्म रहने पर डूश लगायें। यानी रुई या सूती कपडा इस पानी से भिगोकर अपनी योनि (वैजाइना) में रखे। यदि हरी मेथी न मिले तो।

पांच चम्मच मेथी दाना एक किलो पानी में उबालकर, छानकर, उसमे एक चौथाई चम्मच हल्दी मिलाकर डूश देने से प्रदर बंद होता है। रात को सोते समय चार चम्मच पीसी मेथी दाना सफ़ेद और साफ़ भीगे हुए पतले कपडे में बांधकर पोटली बनाकर योनी के अन्दर रखकर सोयें। पोटली को साफ़ एवम मज़बूत लम्बे धागे से बांधकर धागा बाहर निकलता हुआ रखें, जिससे पोटली सरलता से बाहर निकाली जा सके। चार घंटे बाद या जब भी किसी तरह का कष्ट हो, पोटली बाहर निकाल लें. जब तक श्वेत प्रदर ठीक ना हो यह प्रयोग करते रहें। इससे श्वेत प्रदरठीक हो जाता है।

5 चम्मच मेथी दाना को कूट ले और एक गिलास पानी में चार घंटे भिगोकर, पानी छानकर योनी को धोएं।

मेथी पाक या मेथी लड्डू खाने से श्वेत प्रदर से छुटकारा मिल जाता है, शरीर हृष्ट पुष्ट बना रहता है, तथा गर्भाशय की गंदगी बाहर निकालने में सहायता मिलती है।

गर्भाशय कमज़ोर होने पर योनी से पानी की तरह पतला स्त्राव होता है। गुड 1 चम्मच व् मेथी का चूर्ण 1 चम्मच मिलाकर कुछ दिन तक खाएं। इससे श्वेत प्रदर (सफ़ेद पानी) आना बंद हो जाता है।

अनार के हरे पत्ते लें, 25-30 पत्ते…. 10-12 काली मिर्च के साथ पीस लें. इसमें आधा ग्लास पानी डालें, फिर छानकर पी लीजिए. ऐसा सुबह-शाम करें.

 

चम्मच आंवला चूर्ण लें और 2-3 चम्मच शहद लें. और इन्हें आपस में मिलाकर खाएँ.ऐसा एक महीने तक करें.ऐसा करने से आपकी आपकी परेशानी जल्द ही ठीक हो जाएगी

10 ग्राम सोंठ का, एक कप पानी में काढ़ा बनाकर पिएँ. ऐसा एक महीने तक करें.ऐसा करने से आपकी लिकोरिया जल्द ही ठीक हो जाएगी

सिंघाड़े के आटे का हलुआ और इसकी रोटी खाएँ.

3 ग्राम शतावरी या सफेद मूसली लें, फिर इसमें 3 ग्राम मिस्री मिलाकर, गर्म दूध के साथ इसका सेवन करें.

नागरमोथा, लाल चंदन, आक के फूल, अडूसा चिरायता, दारूहल्दी, रसौता, इन सबको 25-25 ग्राम लेकर पीस लें. पौन लीटर पानी में उबालें, जब यह आधा रह जाय तो छानकर उसमें 100 ग्राम शहद मिलाकर दिन में दो बार 50-50 ग्राम सेवन करें.

माजू फल, बड़ी इलायची और मिस्री को बराबर मात्रा में पीस लें. एक सप्ताह तक दिन में तीन बार लें. एक सप्ताह के बाद फिर दिन में एक बार 21 दिन तक लें.

लिकोरिया एक ऐसी समस्या है जिससे हर लड़की को गुजरना पड़ता हैं चाहें छोटी उम्र हो या बड़ी उम्र इसके लिए सही भोजन की आवशकता होती हैं और इसे सही समय पर सही हर्बल दवाई ले कर ठीक किया जा सकता हैं

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *