शीघ्रपतन इलाज के घरेलू नुस्खे

शीघ्रपतन इलाज के घरेलू नुस्खे

समय से पूर्व ही वीर्य स्खलित हो जाने को शीघ्रपतन कहा जाता है। शीघ्रपतन का इलाज संभव है, लेकिन समय से इसका इलाज करना भी जरूरी है।
  • शीघ्रपतन क्या है

    शीघ्रपतन नवयुवकों में तेजी से फैल रही एक प्रकार की यौन अक्षमता है। जब किसी पुरुष में वीर्य पतन उसके इच्छा से पूर्व ही हो जाता है, अथवा संसर्ग के समय वह बहुत जल्दी ही वीर्य स्खलित कर देता है, तो इसे शिघ्र पतन कहा जाता है। डॉक्टरी भाषा में कहा जाए तो, इंटरकोर्स शुरू होने से 60 सैकंड के भीतर ही यदि किसी पुरूष का वीर्य-स्खलन हो जाए तो इसे शीघ्रपतन (premature ejaculation) कहा जाता है। इस समस्या के कारण पुरुष संभोग के दौरान अपने साथी को संतुष्ट नहीं कर पाता है।

  • शीघ्रपतन के कारण व लक्षण

    शीघ्रपतन के कई कारण हो सकते हैं। जैसे- गलत तरह से हस्तमैथुन, अत्यधिक तनाव, मस्तिष्कीय रसायनों का असुंतलन, जो स्तर 2 के शीघ्रपतन के ठीक से इलाज न किए जाने के कारण हो सकता है। इससे ग्रसित व्‍यक्ति का स्‍वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है। उसे सिरदर्द जैसे शा‍रीरिक समस्‍याएं भी हो सकती हैं। इसके अलावा कुछ समय के बाद सेक्स में अरूचि भी आ जाती है व शारीरिक दुर्बलता भी हो सकती है।

  • अलग-अलग होता है उपचार

    शीघ्रपतन के कारण, प्रकार व स्तर के आधार पर इसके इलाज भी अलग-अलग होते हैं। आयुर्वेदिक में भी शीघ्रपतन का कारगर इलाज मौजूद है। इसके अलावा घरेलू नुस्खों को भी अपनाया जा सकता है। विशेषज्ञों का मानना है कि यदि शीघ्रपतन के अलग-अलग लक्षणों के आधार पर मरीज का इलाज किया जाए तो इस परेशानी पर कारगर तरीके से काबू पाया जा सकता है।

  • सेक्स के बीच में लें कैलोरी

    एक बार सेक्स करने में लगभग 400 से 500 कैलोरी ऊर्जा की खपत होती है। इसलिए यदि संभव हो सके तो बीच-बीच में ऊर्जा देने वाले तरल, जैसे ग्लूकोज, जूस, दूध आदि ले सकते हैं। इसके अलावा आपसी बातचीत भी आपको फायदा पहुंचा सकता है। इससे शीघ्रपतन की समस्या से बचा जा सकता है।

  • कौंच के बीज, सफेद मूसली और अश्वगंधा

    शीघ्रपतन के देसी इलाज के लिए कौंच के बीज, सफेद मूसली और अश्वगंधा के बीजों को बराबर मात्रा में मिश्री के साथ मिलाकर बारीक चूर्ण बना लें। फिर एक चम्मच चूर्ण सुबह और शाम एक कप दूध के साथ लेने से शीघ्रपतन और वीर्य की कमी जैसे रोग दूर हो जाते हैं।

  • इमली और गुड़

    एक किलो इमली के बीजों को 2 से 3 दिनों तक पानी में भीगो दें। अब उन बीजों को पानी से निकालकर व उनके छिलके उतारकर ठीक तरह से पीस लें। अब इसमें लगभग दुगुनी मात्रा में पुराना गुड़ मिलाकर इसे आटे की तरह गूंथ लें। प्राप्त पेस्ट की छोटी-छोटी गोलियां बना लें। सेक्स करने के 2 घंटे पहले इनका दूध के साथ सेवन करें। इस तरह शीघ्रपतन की समस्या पर काबू पाया जा सकता है।

  • इलाज से न भागें

    जब आप शीघ्रपतन से पीड़ित हों, तो यह ध्यान में रखना बहुत जरूरी है कि वह हर स्थिति में इलाज से ठीक हो जाता है और इसके सबसे गंभीर मामले भी लाइलाज नहीं हैं। इस समस्‍या को भी एक आम शारीरिक परेशानी की तरह लें। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप शांत रहते हुए समस्या का तुरंत इलाज कराएं। आमतौर पर बिना इलाज कराए आप जितना अधिक समय बिताएंगे, समस्या उतनी ही उलझती जाएगी और उसका इलाज उतना ही कठिन होता जाएगा

  • शीघ्रपतन और सही उपचार

    शीघ्रपतन से पीड़ित होने पर परेशान न हों, यह हर स्थिति में इलाज से ठीक हो जाता है। घबराएं नहीं, इसलिए शांत रहते हुए समस्या का तुरंत डॉक्टर से इसका इलाज कराएं। हाश्मी डॉक्टर इस समस्या का अच्छा इलाज करते है उनसे सलाह ले और इलाज जल्द से जल्द कराये, क्योंकि बिना इलाज कराए आप जितना अधिक समय बिताएंगे, समस्या उतनी ही जटिल और कष्टदायक होती जाएगी और उसका इलाज उतना ही मुश्किल हो जाएगा।

  • कब कराएं इसका इलाज

    यदि बार-बार संभोग के दौरान आपका स्खलन आपके साथी और आपकी इच्छा से पहले हो रहा है तो अपने डॉक्टर से तुरंत इस बारे में बात करें। कई बार ऐसा लोगों को लगता है कि यह समस्या आम है और खुद-ब-खुद ठीक हो जाएगी, तो आप गलत हैं। भले ही यह समस्या आम है लेकिन इसका सही समय पर उपचार होना बेहद जरूरी होता है।

  • एक्सट्रीम्स कैप्सूल से करे इसका उपचार

    एक्स्ट्रीमक्स एक प्राकृतिक कैप्सूल है जो शीघ्रपतन के परेशान मुद्दे को आसानी से ठीक करता है। एक्स्ट्रीमक्स कैप्सूल सर्वश्रेष्ठ और प्रभावी उन कुछ यौन दवाओं में से एक है जो न केवल समय से पहले स्खलन को रोकने में बल्कि आकार में वृद्धि करने में मदद करता है, सहनशक्ति, निर्माण क्षमता, संभोग का समय, लिंग स्थिरता, संभोग सुख, क्षमता और वीर्य मूल्य धारण करने में सुधार करता है।

यदि आप चाहते हैं कि आपकी शादी शुदा ज़िन्दगी में खुशिया भरी रहे और आपकी यौन से जुडी समस्याएँ दूर हो जाये, तो आपको एक्स्ट्रीम एक्स कैप्सूल का इस्तेमाल करना चाहिए और डॉ। हाशमी से संपर्क करना चाहिए जो आपकी समस्या का समाधान करेंगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *