स्तंभन दोष के लिए घरेलू उपचार

स्तंभन दोष के लिए घरेलू उपचार

इरेक्टाइल डिसफंक्शन क्या है, लक्षण कौन कौन से होते हैं और इरेक्टाइल डिसफंक्शन उपचार कैसे होता है। जानिये कुछ इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए सर्वोत्तम दवाएं कौन कौन से हैं और इसके घरेलु उपचार क्या क्या होते हैं।

स्तंभन दोष या नपुंसकता या इरेक्टाइल डिसफंक्शन, संभोग के दौरान शिश्न के उत्तेजित न होने या उसे बनाए न रख सकने के कारण पैदा हुई यौन निष्क्रियता की स्थिति है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन का मतलब है पेनिस में तनाव न आना या यह तनाव बरकरार न रख पाना। इसमें पेनिस उतना कड़ा नहीं हो पाता जिससे पेनेट्रेटिव सेक्स हो सके। इस स्थिति को इम्पोटेंस भी कह दिया जाता है। । यह अनुमान लगाया गया है कि 40 और 70 की उम्र के बीच के सभी आधे पुरुषों में यह समस्या कुछ हद तक पायी जाती है।

स्तंभन क्या है ?

स्तंभन या इरेक्शन वह स्थिति है जिसमें यौनोत्तेजना में पुरुष का शिश्न / पेनिस का आकार बढ़ जाता है और कड़ा हो जाता है। यौन रूप से उत्तेजित होने पर शिश्न की धमनियाँ स्वतः फैल जाती हैं, जिसके कारण अधिक रक्त शिश्न के तीन स्पंजी ऊतक कक्षों मे भर जाता है और इसे लंबाई और कठोरता प्रदान करता है। यह रक्त से भरे ऊतक रक्त को वापस ले जाने वाली शिराओं पर दबाव डाल कर सिकोड़ देते है, जिसके कारण अधिक रक्त प्रवेश करता है और कम रक्त वापस लौटता है। ऐसा होने से शिश्न को एक निश्चित स्तंभन आकार मिलता है।

स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ईडी) क्या है?

इरेक्टाइल डिसफंक्शन या स्तंभन दोष वह स्थिति है जिसमें एक पुरुष संभोग के लिए पर्याप्त इरेक्शन / स्तम्भन को पाने या उसे बरकरार रखने में असमर्थ रहता है।

यह कहा जा सकता है की व्यक्ति को स्तम्भन दोष है, यदि उसे कभी कभी इरेक्शन होता है, लेकिन हर बार नहीं इरेक्शन होता है लेकिन यह संभोग के लिए पर्याप्त समय तक नहीं रहता व्यक्ति कभी भी इरेक्शन पाने में असमर्थ इरेक्शन न होने को नपुंसकता भी कहा जाता है।

मुझे स्तंभन दोष है, कब डॉक्टर को दिखाना चाहिए?

यदि आपको कुछ सप्ताह या महीने से यह समस्या है तो डॉक्टर से संपर्क करें। डॉक्टर जांचों द्वारा समस्या के कारण को पहचानने की कोशिश करते हैं। कई बार हृदय रोग, मधुमेह, नसों में दिक्कत के लक्षण के रूप में ईडी होता है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के कारण क्या हो सकते हैं?

इरेक्टाइल डिसफंक्शन होने के बहुत से कारण हो सकते हैं। सभी में एक जैसे कारण नहीं होते। शिश्न में तनाव न आने के कारणों में शारीरिक और मानसिक दोनों ही कारण हो सकते हैं। मानसिक समस्याओं से भी भी व्यक्ति के यौन स्वास्थ्य पर सीधा असर पड़ता है।

कभी कभी स्तंभन दोष कुछ स्थितियों में ही होता है उदाहरण के लिए, हस्तमैथुन के दौरान तो इरेक्शन हो जाता है लेकिन सम्भोग करने के लिए नहीं। यदि यह मामला है, तो यह संभावना है कि स्तंभन दोष का मूल कारण मनोवैज्ञानिक (तनाव संबंधी) है।

यदि आप किसी भी परिस्थिति में इरेक्शन नहीं पा रहे हैं, तो यह संभावना है कि शारीरिक कारण है। कुछ दवाओं के साइड इफ़ेक्ट के कारण भी इरेक्शन नहीं हो पाता है

  • पेनिस की रक्त वाहिकाओं का संकरा हो जाना- सामान्यतः उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल या मधुमेह से जुड़े
  • हार्मोनल समस्या
  • सर्जरी या चोट

ईडी के मनोवैज्ञानिक कारणों में शामिल हैं:

  • चिंता
  • डिप्रेशन
  • संबंध में समस्या

स्तंभन दोष का निदान कैसे किया जाता है?

  1. यदि आपके इरेक्शन ठीक से नहीं आ रहे तो यूरोलोजिस्ट से समपर्क करें। इसके लिए डॉक्टर मेडिकल हिस्ट्री लेंगे।
  2. शारीरिक परीक्षा के द्वारा लिंग या अंडकोष में संभव तंत्रिका की समस्याओं के लिए जाँच करने करेंगे।
  3. इरेक्टाइल डिसफंक्शन में डॉक्टर मरीज से उसकी मेडिकल और सेक्सुअल हिस्ट्री के बारे में पूछते हैं और कई टेस्ट कराते हैं।
  4. मेडिकल और सेक्सुअल हिस्ट्री medical and sexual history
  5. शारीरिक परीक्षा physical exam
  6. ब्लड टेस्ट blood tests
  7. पेशाब की जांच Urine tests (urinalysis)
  8. नोक्टर्नल इरेक्शन टेस्ट erection test
  9. इंजेक्शन परीक्षण injection test
  10. डॉपलर अल्ट्रासाउंड Doppler ultrasound
  11. मानसिक स्वास्थ्य परीक्षा Mental Health Exam

शारीरिक परीक्षा physical exam के दौरान निम्न को जांचा जाता है

लिंग को छू कर यह जांचा जाता है की क्या यह शारीरिक स्पर्श के प्रति संवेदनशील है। लिंग में यदि संवेदनशीलता का अभाव है, तो तंत्रिका तंत्र में किसी प्रकार की दिक्कत इरेक्टाइल डिसफंक्शन का कारण हो सकती है।

लिंग में देखने पर किसी प्रकार की असामान्यता। उदाहरण के लिए, Peyronie रोग में लिंग के सख्त होए पर वह मुड़ा हुआ या वक्र लगता है।
शरीर के बालों का गिरना या स्तनों का बढ़ना जो की हॉर्मोन असंतुलन low testosterone को दिखाता है।
ब्लड प्रेशर की जांच की जाती है।
कलाई में और एड़ियों में नाड़ी की जांच जिससे सर्कुलेशन blood circulation में होने वाली दिक्कत पता लग सके।
ब्लड टेस्ट blood tests में मधुमेह, atherosclerosis, क्रोनिक किडनी रोग, और हार्मोन संबंधी समस्याओं आदि है की नहीं जांचा जाता है।

नोक्टर्नल इरेक्शन टेस्ट में रात को होने वाले इरेक्शन के बारे में पता लगाया जाता है। हर स्वस्थ्य पुरुष को रात में तीन से पांच इरेक्शन होते हैं। यदि यह इरेक्शन व्यक्ति में देखे जा रहे हैं तो इसका मतलब है की उसमें इरेक्टाइल डिसफंक्शन का कारण मनोवैज्ञानिक या भावनात्मक है। इंजेक्शन परीक्षण में इंजेक्शन intracavernosal injection लगाकर लिंग में आये स्तम्भन और समय को देखते हैं।

डॉपलर अल्ट्रासाउंड, द्वारा लिंग में रक्त के प्रवाह को जांचा जाता है। इरेक्शन लाने के लिए इंजेक्शन भी लगाया जा सकता है। एक्स-रे तकनीशियन लिंग पर हल्के हाथ से डिवाइस गुजारता है। कंप्यूटर स्क्रीन पर रक्त वाहिका में रक्त प्रवाह की गति और दिशा देखी जाती है।मानसिक स्वास्थ्य परीक्षा के द्वारा दंपति के भावनात्मक और शारीरिक संबंधों के बारे में जानकारी ली जाती है। रक्त और मूत्र परीक्षण भी मधुमेह या कम टेस्टोस्टेरोन जैसे समस्याओं का निदान करने में मदद कर सकते हैं।

स्तंभन दोष के लिए उपचार क्या है?

स्तंभन दोष का उपचार मुख्य रूप से समस्या के कारण से निपटने के द्वारा किया जाता है, चाहे यह शारीरिक या मनोवैज्ञानिकहै।

धमनियों का संकुचन (एथेरोस्क्लेरोसिस कहा जाता है) ईडी के सबसे सामान्य कारणों में से एक है। इस केस में डॉक्टर कार्डियोवास्कुलर बीमारी के जोखिम को कम करने की कोशिश करने के लिए वजन कम करने के लिए जीवन शैली में बदलाव का सुझाव दे सकते है। इससे आपके लक्षणों को दूर करने के साथ-साथ आपके सामान्य स्वास्थ्य को सुधारने में मदद मिल सकती है। रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल-डाउनिंग को कम करने की दवाएं भी दी जा सकती हैं।

स्तंभन दोष के लिए उपचार

  1. जीवन शैली में परिवर्तन (सिगरेट, शराब ड्रग्स आदि का सेवन न करके, व्यायाम बढ़ा कर, और प्राणायाम करके )
  2. काउंसलिंग (इमोशनल करणों को दूर करके, स्ट्रेस-एंग्जायटी कम करके)
  3. अन्य रोगों में दी गई दवाई में बदलाव लाकर
  4. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए विशेष दवाएं देकर, सर्जरी से कोई शारीरिक दिक्कत दूर करके

जीवन शैली में परिवर्तन

  1. वजन कम करना यदि आप अधिक वजन वाले हैं
  2. धूम्रपान छोड़ना
  3. शराब छोड़ना
  4. अवैध ड्रग्स नहीं लेना
  5. व्यायाम नियमित रूप से करना
  6. स्ट्रेस कम करना

एक्सट्रीम्स कैप्सूल से करे इसका उपचार


एक्स्ट्रीमक्स एक प्राकृतिक कैप्सूल है जो शीघ्रपतन के परेशान मुद्दे को आसानी से ठीक करता है। एक्स्ट्रीमक्स कैप्सूल सर्वश्रेष्ठ और प्रभावी उन कुछ यौन दवाओं में से एक है जो न केवल समय से पहले स्खलन को रोकने में बल्कि आकार में वृद्धि करने में मदद करता है, सहनशक्ति, निर्माण क्षमता, संभोग का समय, लिंग स्थिरता, संभोग सुख, क्षमता और वीर्य मूल्य धारण करने में सुधार करता है।

यदि आप चाहते हैं कि आपकी शादी शुदा ज़िन्दगी में खुशिया भरी रहे और आपकी यौन से जुडी समस्याएँ दूर हो जाये, तो आपको एक्स्ट्रीम एक्स कैप्सूल का इस्तेमाल करना चाहिए और डॉ। हाशमी से संपर्क करना चाहिए जो आपकी समस्या का समाधान करेंगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *